Sun

Sun

Product Code: vastu14
Availability: 350
450.00
-+
 

Ask a question about this product



विभिन्न कार्यो की सिद्धि हेतु पुराणों में अनेक विधियाँ बताई गई है जोकि गृहस्थ आश्रम में संपादित करना कठिन है| इस भाग-दौड़ की जिंदगी में प्रतिदिन पूजा पाठ के लिए कई घंटे समय निकालना कठिन है| जिन जातकों को ग्रह शांति के उपाय में बाधाए आती है या सामर्थ्य न हो तो वे सूर्य की उपासना से लाभ ले सकते है| सूर्य ग्रहों का राजा है| ज्योतिष के अनुसार सूर्य का उपाय करने से समस्त ग्रहों की शांति हो जाती है|

शुभ महूर्त में रविवार के दिन प्रातः काल सूर्य की प्रतिष्ठा आदि करके षोडषोपचार पूजन करना चाहिए तत्पश्चात यथाविधि प्रतिदिन सूर्योदय के समय सूर्य को तांबे की थाली में रख कर तांबे के लोटे में जल,दूर्वा, अक्षत, पुष्प, हल्दी आदि डालकर सूर्य के समक्ष ॐ ह्रां ह्रीं ह्रो स: सूर्याय नम: बोलकर अर्ध्य अर्पण करने से अनेक ग्रहों का शुभ प्रभाव प्राप्त होता है| सूर्य को प्रतिदिन सूर्य के सम्मुख रहकर सूर्य मंत्र से 108 बिल्व पत्र अर्पण करने से लक्ष्मी लाभ होता है|

Write a review

Note: HTML is not translated!
    Bad           Good
INDIAN INSTITUTE OF ASTROLOGY & GEMOLOGY © 2019 . All Rights Reserved | IIAG