बुध की अनिष्ट शांति

  • “ॐ बु बुधाय नम:” मंत्र का अधिकाधिक जाप करे|
  • श्री गणेशजी की व श्री विष्णु भगवान की पूजा-अर्चना करे|
  • विष्णु सहस्त्रनाम का पाठ करे|
  • बुधवार का व्रत करे|
  • भोजन में मूंग की दाल(छिलके वाली), हरी पत्तेदार सब्जियों का सेवन करे|
  • हरे रंग के वस्त्र पहने|
  • गाय को हरा चारा खिलाएं|
  • हरडत्र बहेड़ा, गोरस, अक्षत, गोरोचन, सुवर्णा, आवला और शहद को जल में मिलाकर स्नान करे|
  • साबुत मूंग, सकर्रा, हरा वस्त्र, सुवर्ण, फल, कपूर व घी का सामर्थ्य के अनुसार दान करते रहे|
  • बुधवार को सिद्धि योग में पन्ना रत्न सुवर्ण की अंगूठी में कनिष्ठा अंगुली में धारण करे|
  • किसी बुधवार को सिद्धि योग में अष्टगंध द्वारा और अनार की कलम से भोजपत्र बुध यंत्र लिख कर धारण करे|
  • बुधवार को सिद्धि योग में विधारा वृक्ष की जड को गंगाजल से शुद्ध कर, हरे वस्त्र में लपेट कर सीधे हाथ में धारण करे|
  • छोटे बच्चो को या विद्यार्थियों को मिठाइयाँ, खाद्य पदार्थ, खिलौने, शिक्षण सामग्री और वस्त्रादि भेंट करे|
  • गणेश जी के पांच या सात हरी वस्तुए दान करे|

प्रत्येक बुधवार गणेश मन्दिर में हरी धूब व मूंग के लड्डू का भोग अवश्य लगाये|

INDIAN INSTITUTE OF ASTROLOGY & GEMOLOGY © 2019 . All Rights Reserved | IIAG