वास्तु शास्त्र में दिशाओं का महत्त्व
13 Mar
0

वास्तु शास्त्र में दिशाओं का महत्त्व

Posted By: Yagyadutt Times Read: 274

Øदिशाओं के ज्ञान को ही वास्तु कहते हैं।

Ø यह एक ऐसी पद्धति का नाम है, जिसमें दिशाओं को ध्यान में रखकर भवन निर्माण व उसका इंटीरियर डेकोरेशन किया जाता है।

Ø ऐसा कहा जाता है कि वास्तु के अनुसार भवन निर्माण करने पर घर-परिवार में खुशहाली आती है।

Ø वास्तु में आठ महत्वपूर्ण दिशाएँ होती हैं, भवन निर्माण करते समय जिन्हें ध्यान में रखना नितांत आवश्यक है।

Ø ये दिशाएँ पंचतत्वों की होती हैं।

 

Comments
Write Comment
INDIAN INSTITUTE OF ASTROLOGY & GEMOLOGY © 2021 . All Rights Reserved | IIAG